Politics

पेरू: सड़कें जागृत हो रही हैं

पेरू में जारी विरोध प्रदर्शन और राजनीतिक उथल-पुथल ने पेरू के समाज में एक गहरे विभाजन को उजागर किया है।
यह संकट नेताओं की एक पीढ़ी के पतन को दर्शाता है, जो न तो ये समझते हैं कि सड़क पर क्या हो रहा है और न हीं यह कि प्रदर्शनकारी उनसे क्या चाहते हैं।
यह संकट नेताओं की एक पीढ़ी के पतन को दर्शाता है, जो न तो ये समझते हैं कि सड़क पर क्या हो रहा है और न हीं यह कि प्रदर्शनकारी उनसे क्या चाहते हैं।

संपादकीय नोट: आर्थिक विकास के प्रसिद्ध "पेरू चमत्कार" के एक दशक से अधिक बीत जाने के बाद, देश इस साल लैटिन अमेरिका में सबसे खराब आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। गरीबी, असमानता और अनौपचारिकता के उच्च स्तर ने पेरू के आर्थिक मॉडल की विफलताओं को उजागर कर दिया है। एक अभूतपूर्व आर्थिक और स्वास्थ्य संकट के बीच, शक्ति-रिक्त पेरू के राजनीतिक संस्थानों ने पेरू के लोगों के शक्तिशाली जुटान के लिए स्थितियों को सुगम बनाया है।

मार्टिन विजकार्रा के निष्कासन ने सड़क पर विरोध का फ्यूज जला दिया है। उनके उत्तराधिकारी, मैनुअल मेरिनो, को भारी विरोध के बीच इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया और एक सप्ताह के भीतर कांग्रेस द्वारा एक दूसरे राष्ट्रपति का चुनाव किया गया। इस संकट ने इस समाज में, विशेषकर, युवा पीढ़ियों और राजनीतिक नेतृत्व के बीच एक गहरे विभाजन को उजागर किया है।

जब इन शब्दों को लिखा जा रहा था, तब पेरू एक ऐसा देश था, जहां तीन में से दो राज्य शाखाओं में कोई भी प्रभारी नहीं था। एक कार्यकारी शाखा बिना अध्यक्ष या उपाध्यक्ष के, बिना मंत्रिपरिषद प्रमुख के, और बिना किसी सक्रिय कैबिनेट के। एक विधायी शाखा बिना राष्ट्रपति के, और बिना कार्यकारी परिषद के। रविवार की रात, कथित तौर पर सहमति वाली सूची - जो फ्रांटे एम्प्लियो के एक नेता और मानवाधिकार कार्यकर्ता रोसीओ सिल्वा सेंटिस्टेबान की अध्यक्षता में थी - पर वोट के बावजूद कांग्रेस एक नई परिषद बनाने में विफल रही।

इस अराजक स्थिति में हम कैसे पहुंचे? सोमवार, 9 नवंबर को, कांग्रेस - जो इस साल जनवरी में चुनी गई थी - वह काम करने में सफल रही जो वह एक महीने पहले नहीं कर पायी थी: राष्ट्रपति मार्टिन विजकार्रा को हटाने में, जो मार्च 2018 में पेड्रो पाब्लो कुक्ज़िनस्की के बाद आए थे। वे राजकोषीय जांच के दायरे के अंदर राष्ट्रपति को सत्ता से हटाने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़े, जिस जाँच में एक दशक से अधिक समय पहले, मोकुएगुआ की क्षेत्रीय सरकार में अपने समय के दौरान विजकार्रा द्वारा किए गए भ्रष्टाचार के संकेत मिले थे।

कई साल पहले, "स्वतंत्र राजनेताओं के गठबंधन" शब्द को पेरू के राजनीतिक दलों के कामकाज को समझाने के लिए बनाया गया था, जिन दलों के राजनेता, राजनीतिक परियोजनाओं पर एक साथ आते हैं, लेकिन फिर जैसे ही यह उनके हित के विरुद्ध जाता है, वे अपनी संबद्धता बदल देते हैं। कोई विचारधारा, कार्यक्रम या दीर्घकालिक परियोजनाएं नहीं हैं। कोई राजनीतिक अभिजात वर्ग नहीं है, बल्कि ऐसे लोगों का समूह है जो समय के साथ खुद को मजबूत करने के बजाए वैकल्पिक रूप से सत्ता में आता रहता है।

एक हफ्ते पहले जो हुआ, वह एकदम पेरू की चुनावी राजनीति के कामकाज के अनुसार था, जो हितों का एक मिश्रित गठबंधन है जिसके संयोग का एकमात्र बिंदु विजकार्रा का प्रस्थान था।

वे कांग्रेस सदस्य, जो प्रतिनिधित्व करते हैं उन विश्वविद्यालयों के उद्यमियों का जो न्यूनतम गुणवत्ता मानकों तक नहीं पहुंचने की वजह से बंद हो गए, उन कंपनियों का जो निषिद्ध क्षेत्रों में प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करना चाहती हैं, और सभी प्रकार के अन्य व्यवसायों का। कांग्रेस के वे सदस्य जो वर्तमान कानूनी व्यवस्था का विरोध करते हुए अपने राजनीतिक करियर को जारी रखना चाहते हैं, और अन्य जो किसी भी कानूनी कार्यवाही से बचना चाहते हैं। वास्तव में विजकार्रा के निष्कासन का एक संभावित कारण यह है कि इन अनोखे दलों में कुछ राजनेताओं ने समयबद्ध रूप से कार्यान्वित सुधारों को उलटने की कोशिश की है। इन सुधारो के चलते, अगले अप्रैल के राष्ट्रपति चुनावों में मामूली सकारात्मक चुनावी परिणाम का मतलब होगा उनके संगठनों का अंत और इस तरह उनके जीवन यापन के लिए मुख्य समर्थन का भी अंत।

इस अवसरवादी गठबंधन के दूसरी तरफ विजकार्रा जैसे राष्ट्रपति थे, जो यह नहीं समझे कि कांग्रेस द्वारा संभावित हमलों से खुद का बचाव करने के लिए उन्हें अपने स्वयं के संसदीय दल की जरूरत है। उन्होंने अपनी खुद की एक सूची भी पेश नहीं की, और न ही उन्होंने राजनीतिक गठजोड़ का निर्माण किया, जो उन्हें अंततः कांग्रेस का सामना करने के लिए सुसज्जित करता। यह स्पष्ट था कि उनकी सरकार के अंतिम चरण को स्थिर करने का तरीका "राष्ट्रपति गठबंधन मॉडल" का पालन करना था, जिसमें उनका कैबिनेट एक गठबंधन को व्यक्त करता जो उनकी सरकार को स्थिरता प्रदान कर पाता।

फुजिमोरीवाद के षड्यंत्रकारी प्रयासों को निष्क्रिय करने के लिए, सितंबर 2019 के अंत में, विजकार्रा ने अपनी राष्ट्रपति शक्तियों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस को भंग कर दिया। विघटन के बाद की लोकप्रियता की लहर में डूबे हुए राष्ट्रपति ने जनवरी 2020 के कांग्रेस चुनावों के लिए सूची प्रस्तुत नहीं करने का फैसला किया। राष्ट्रपति के टिकट के बिना और असामान्य रूप से उच्च संख्या में अवैध वोटों और अनुपस्थित लोगों के साथ, इन चुनावों में विखंडन का प्रभुत्व था, जहां सबसे अधिक वोट वाली पार्टियों को मुश्किल से 10 फीसदी वोट मिले थे। संसदीय अनुभव के बिना निर्वाचित कांग्रेसियों ने वर्तमान तस्वीर को पूरा किया।

कोई सरकारी बेंच नहीं होने के कारण, विजकार्रा ने नए सांसदों के साथ अपने रिश्ते जल्दी बिगाड़ लिए। जब गत जुलाई में, "कांग्रेस को भंग करने की संभावना" के द्वारा प्राप्त सुरक्षा समाप्त हो गई - क्योंकि संविधान इसे सरकार के अंतिम वर्ष के दौरान लागू होने से रोकता है - तनाव चरम पर पहुंच गया और अगस्त के बाद से, कांग्रेस के सदस्यों द्वारा किए गए हमले अंतहीन हैं।

विदा हुए गठबंधन की संरचना कमजोर थी, और मैनुएल मेरिनो, चैंबर ऑफ डिपॉजिट्स के अध्यक्ष जिन्होंने विजकार्रा को प्रतिस्थापित किया था - की सरकार को भी इसी समस्या का सामना करना पड़ा। पहला संकेत था - देश के उत्तर से आए पशु-पालकों द्वारा दिया गया भाषण, जो उस राजनीतिक छण जिससे देश गुजर रहा था - उसको पहचानने में असमर्थ था, विचारहीन था और जो घिसे-पिटे वाक्यों से भरा हुआ था। दूसरा संकेत था, राष्ट्रपति की बेल्ट मिलते ही सार्वजनिक दृश्य से मेरिनो का गायब होना।

"विस्तृत-व्यापक" कैबिनेट के अपने वादे को निभाने में असमर्थ, उन्होंने सरकारी महल में शरण लेने का फैसला किया। उनके मंत्रिपरिषद के प्रमुख ("प्रधान मंत्री") के रूप में नियुक्त अंटेरो फ़्लोरेस-अराओज़ ने देश के सबसे अधिक रूढ़िवादी और यहां तक कि नस्लवादी राइट की सीमाओं से परे राजनीतिक कर्मियों को बुलाने की असंभवता की पुष्टि कर दी।

मंत्रिमंडल के अधिकांश सदस्यों को दो मुख्य स्रोतों से भर्ती किया गया था। पहला "कोऑर्डिनडोरा रिपब्लिकाना" था, एक स्तिथि जो फुजिमोरिज़्म के इर्द-गिर्द घूमते रूढ़िवादी राजनेताओं, ऑपरेटरों और पत्रकारों से सम्बंधित थी, जिन्हें फ़ुजिमोरीस्टा कांग्रेस के बंद होने और उसके नेता केइको फ़ुजीमोरी के पतन के बाद राजनीतिक परिदृश्य से बाहर निकाल दिया गया था। दूसरा देश के प्रमुख व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधि थे - एक अल्पसंख्यक लेकिन प्रमुख क्षेत्र जिनके सदस्य मंत्रिमंडल में शामिल हो गए। तीन मंत्रालयों को इस क्षेत्र को सौंपा गया था, जिसमें पेट्रीसिया ट्यूललेट जो "नैशनल कन्फ़ेडरेशन ओफ़ प्राइवट बिज़्नेस इन्स्टिटूशंस" (कोनफ़ीएप - बड़ा पेरू व्यापार समुदाय का प्रतिनिधित्व करने वाला गिल्ड) की महाप्रबंधक हैं, सबसे अधिक दिखने वाली हस्ती है। इसी संस्था ने अपने शुरुआती क्षणों में मेरिनो के राष्ट्रपति पद का समर्थन करते हुए एक बयान जारी किया था।

फिर भी, न तो वास्तविक सरकार और न ही विजकार्रा को हटाने का विरोध करने वाले और न ही सबसे विविध विश्लेषकों ने उच्च विद्यालय और विश्वविद्यालय के छात्रों के नेतृत्व में इस संचालन का पूर्वाभास किया था, जो सोमवार की रात को विजकार्रा को हटाने के वोट के बाद शुरू हुआ था।

यदि मेरिनो, और जो लोग इस साहसिक कार्य में उनके साथ थे, उन्होंने सोचा कि विज़कार्रा का प्रस्थान उनकी समस्याओं का अंत था, तो वे गलत थे। विरोध कई गुना तेजी से बढ़ा। सामाजिक नेट्वर्कों ने मुख्य संगठनात्मक उपकरण के रूप में कार्य किया और कही बाहर के विरोध प्रदर्शनो में इस्तेमाल की गयी तकनीकों को भी अपनाया गया। उन दिनों मार्च कर रहे लोगों के लिए चिली और होंगोकोंग के विरोध प्रदर्शनो से सीखा सबक उपयोगी था। पुलिस के खिलाफ लेजर पॉइंटर्स का उपयोग, आंसू गैस बम को निष्क्रिय करने के लिए तंत्र और विकेंद्रीकृत विरोध प्रदर्शन का उपयोग जैसी युक्तियाँ पुलिस को अपने प्रयासों को फैलाने के लिए मजबूर करने के लिए उनकी रणनीति का भाग थे।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि, हालांकि कुछ यूनियनें विरोध प्रदर्शनों में मौजूद थीं, मुख्य राष्ट्रीय यूनियनों ने केवल गुरुवार को ही शामिल होने का फैसला किया। हाल के दिनों में, देश के मुख्य व्यापार संघ, जेनरल कन्फ़ेडरेशन ओफ़ परूवीयन वर्केरस (सीजीटीपी) ने अगले बुधवार के लिए पहली बड़ी भीड़ जुटाने का आह्वान किया है। यदि तब तक राजनीतिक संकट सक्रिय रहता है, तो हम युवा आंदोलन, जिसने मेरिनो को सत्ता छोड़ने के लिए मजबूर किया था, और संगठित लोकप्रिय क्षेत्रों के बीच पहली बैठक देख सकेंगे।

गुरुवार को दमन अत्यधिक था, जिससे कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनमें से कुछ गंभीर थे, लेकिन शनिवार को हुआ दमन पूर्णतः आपराधिक था। जैसे-जैसे समय बीतता गया और जनता ने मेरिनो की "अंतरिम" सरकार को गिरते देखा, राजनीतिक नियंत्रण फीका पड़ते-पड़ते पुलिस बल और दमनकारी हो गये। उन्होंने न केवल आंसू गैस का इस्तेमाल किया, बल्कि सीसे के छर्रों के साथ आग्नेयास्त्रों और जाहिर तौर पर बड़े क्षमता वाले हथियारों का भी इस्तेमाल किया। शनिवार की रात, राष्ट्रीय पुलिस के सदस्यों द्वारा 22 और 24 वर्ष की आयु के दो छात्रों की हत्या कर दी गई। 60 से अधिक लोग घायल हो गए और समान संख्या में गायब भी हो गए। ग़ायब हुए लोगों में से कुछ बाद में पा लिए गए, लेकिन कुछ अभी भी गुमशुदा हैं।

विजकार्रा का पतन पराग्वे के पूर्व राष्ट्रपति फर्नांडो लुगो के समान है, जिन्हें 2012 में जल्दबाजी में पद से हटा दिया गया था, लेकिन सप्ताहांत, 2001 के अर्जेंटीना की तरह ज़्यादा था, जब उसकी विशाल राजनीतिक अस्थिरता और उसकी सड़कों पर विरोध प्रदर्शन ने उस महत्वपूर्ण वर्ष को चिह्नित किया था।

महामारी के कारण पहले से ही कठिन स्थिति के साथ साथ राजनीतिक माहौल से ऊर्जित जन-असंतोष के पैमाने ने पंडोरा का पिटारा खोल दिया है। संवैधानिक परिवर्तन का प्रस्ताव वाम के क्षेत्रों से भी परे फैल रहा है, और अब इसमें अन्य सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्र भी शामिल हैं। एक नए संविधान की खोज पेरू के आर्थिक मॉडल के सुधार तक सीमित नहीं है। मेरिनो और फ़्लोरेस-अराओज़ कैबिनेट द्वारा फैलाए गए संकट ने दिखाया है कि राजनीतिक प्रणाली में सुधार करना असंभव है। 2000 में अल्बर्टो फुजीमोरी के पतन के बाद लोकतंत्र में वापसी के बाद से पेरू कांग्रेस द्वारा प्रवर्तित सभी परियोजनाएं विफल रही हैं। जिन राजनैतिक सुधारों को लागू किया गया है, वे या तो अधूरे हैं या फिर यथास्तिथि बनाए रखने का एक जटिल तरीका है।

अब तक जो कुछ हुआ है उस पर एक अंतिम टिप्पणी यह है की जैसा कि अल्पकालिक फ़्लोरेस-अराओज़ ने भी स्वीकार किया है, कि यह संकट राजनीतिज्ञों की एक पीढ़ी के पतन को दर्शाता है जिन्हें यह समझ नहीं आता कि सड़कों पर क्या हो रहा है, और न ही यह की प्रदर्शनकारियों को क्या चाहिए। आम तौर पर, पेरू ऐसे राजनेताओं द्वारा शासित देश है जिनकी औसत आयु उस आबादी की औसत आयु से काफ़ी ऊपर है जिसका वे प्रतिनिधित्व करने का दावा करते हैं। वे मतदाताओं की इच्छाओं से जुड़ने में असमर्थ हैं और उनके राजनीतिक प्रतिनिधित्व के विचार को नहीं समझते हैं। जो युवा विरोध करने के लिए निकले हैं, वे पहली पीढ़ी हैं जिन्होंने अपना संपूर्ण जीवन लोकतांत्रिक सरकारों के अधीन गुजारा है। इस तथ्य को उनकी राजनीतिक अपेक्षाओं से अलग करना असंभव है।

सरकार और लोगों के बीच यह विभाजन एक अत्यंत रूढ़िवादी कैबिनेट द्वारा उत्तेजित किया गया था। इस कैबिनेट में राजनीति और सत्ता ग्रहण करने की बहुत ही पदानुक्रमित और सत्तावादी दृष्टि है। इस जुटान को इस राजनीतिक पीढ़ी को सेवानिवृत्त करा देना चाहिए, लेकिन यह और भी महत्वपूर्ण है कि वे प्रतिक्रियावादी क्षेत्रों को हटाने के लिए भी काम करें - वे छेत्र जो कई वर्षों से समाज में अपने महत्व को खो रहे हैं, लेकिन फिर भी उन्हें सार्वजनिक राय और पेरू राज्य के कुछ तत्वों से समर्थन मिलता रहा है।

इस लेख के अंत में और एक दूसरे वोट में, कांग्रेस एक नया कार्यकारी परिषद बनाने में कामयाब रही जिसका अध्यक्ष देश का नया राष्ट्रपति बनेगा। निर्वाचित सांसद फ्रांसिस्को सगस्ती हैं, जो जूलियो गुज़मैन की पर्पल पार्टी के हैं और एक प्रसिद्ध विद्वान हैं। दूरदर्शिता के विशेषज्ञ और पेरू की विशती से पहले पेरू का पुनर्विचार करने के लिए विभिन्न पहलों की प्रेरक शक्ति, सगास्टी निश्चित रूप से एक बड़ी कैबिनेट बनाने में सक्षम होंगे जो उन्हें जुलाई 2021 तक शासन करने की अनुमति देगा। कार्यक्रमों के संदर्भ में, वास्तविक सरकार के अति-रूढ़िवादी प्रकोप के बाद, देश अब पिछले दो दशकों के दिशा-निर्देशो के मार्ग पर जारी रहेगा।

कार्लोस अल्बर्टो एड्रियनज़ेन ने पोंटीफ़ीचिया यूनिवर्सिदाद कैटोलिका डेल पेरु से समाजशास्त्र में डिग्री ली है। वर्तमान में वह अर्जेंटीना के नेशनल काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड टेक्निकल रिसर्च (कोनिकेट) से छात्रवृत्ति के धारक हैं और साथ ही ब्वेनॉस आयर्स में नेशनल यूनिवर्सिटी ओफ़ सैन मार्टिन (उनसैम) में डॉक्टरेट के छात्र भी हैं।

Help us build the Wire

The Wire is the only planetary network of progressive publications and grassroots perspectives.

Since our launch in May 2020, the Wire has amplified over 100 articles from leading progressive publications around the world, translating each into at least six languages — bringing the struggles of the indigenous peoples of the Amazon, Palestinians in Gaza, feminists in Senegal, and more to a global audience.

With over 150 translators and a growing editorial team, we rely on our contributors to keep spreading these stories from grassroots struggles and to be a wire service for the world's progressive forces.

Help us build this mission. Donate to the Wire.

Support
Available in
EnglishSpanishGermanFrenchItalian (Standard)TurkishPortuguese (Brazil)Portuguese (Portugal)Hindi
Author
Carlos Alberto Adrianzén
Translators
Mohit Sachdeva and Surya Kant Singh
Date
25.11.2020

More in Politics

Politics

Solidarity Party of Afghanistan

Receive the Progressive International briefing
Privacy PolicyManage CookiesContribution Settings
Site and identity: Common Knowledge & Robbie Blundell