Migration

नंजाला न्याबोला: वो समुद्र जो हमारे बच्चों को खाता है

भूमध्य सागर को सामूहिक कब्रिस्तान में तब्दील करने में यूरोप की मिलीभगत पर पीआई काउंसिल की सदस्य नंजाला न्याबोला ।
भूमध्य सागर केवल 2400 मील लंबा है, महाद्वीपीय अफ्रीका की लंबाई से लगभग आधा, लेकिन 2010 के दशक में यह आधुनिक दुनिया में अफ्रीकियों के लिए सबसे बड़ा सामूहिक कब्रिस्तान बन कर सामने आया।
भूमध्य सागर केवल 2400 मील लंबा है, महाद्वीपीय अफ्रीका की लंबाई से लगभग आधा, लेकिन 2010 के दशक में यह आधुनिक दुनिया में अफ्रीकियों के लिए सबसे बड़ा सामूहिक कब्रिस्तान बन कर सामने आया।

हालांकि अफ्रीका, एशिया और यूरोप के बीच की क्रॉसिंग इनके तटों के साथ के जनजीवन जितनी ही पुरानी है, लेकिन आधुनिक युग में, यात्रा पर प्रतिबंध और हिंसक सीमा सुरक्षा ने समुद्र को एक बड़े पैमाने पर कब्रिस्तान में बदल गया है, जहां देश कमज़ोर लोगों को सुरक्षा के बजाय मौत या गुलामी की ओर वापिस भेजना अधिक पसंद करते हैं। यूरोप के लगभग सभी देश सबसे कमज़ोर लोगों को वापिस भेजने की मिलीभगत में शामिल हैं, जिसमें बड़ी-बड़ी नौकाओं द्वारा डराना भी शामिल है ।

भूमध्य सागर पर होने वाली मौतों को गलत तरीके से अफ्रीकी, सीरियाई या यहां तक कि लीबिया संकट के रूप में दिखाया गया है; या फिर प्रवास के बारे में होने के रूप में। जबकि यूरोप ने चर्चा का रुख मोड़ कर इसे यूरोपीय सीमा के संकट के रूप में घोषित किया है, वास्तव में यह यूरोपीय राज्य का संकट है-जो महाद्वीप के भीतर के संघर्ष और विभाजन के इतिहास के साथ जुड़ा हुआ है । दुनिया के राज्यों में कार्य कैसे होता है और इनके डर का माहौल यूरोप के खूनी और हिंसक इतिहास से काफ़ी हद तक जुड़ा है ।

तीन मुख्य मार्ग हैं जो आपको अफ्रीका या एशिया से यूरोप में भूमध्य सागर के पार ले जाएंगे। इन मार्गों का उपयोग लगभग तब से किया गया है जब से भूमध्य सागर के पार यात्रा का दस्तावेज़ीकरण किया गया है । समुद्र तट के पार बिखरे हुए प्राचीन सभ्यताओं के अपरद है जिनसे आधुनिक युग का जन्म हुआ - ग्रीस में स्पार्टा, ट्यूनीशिया में कार्थेज, मिस्र में अलेक्जेंड्रिया, ऐतिहासिक एथेंस और रोम-ये ऐसे समाजों की एक कहानी है जो एक दूसरे के साठ चाहे लगातार नहीं पर अक्सर ज़रूर दोस्ताना संपर्क में रहे। यदि पश्चिमी दर्शन पश्चिमी राजनीति और समाज का एक आधार है, तो यह देखने लायक है कि पश्चिमी दर्शन के सबसे उल्लेखनीय उत्पादों के कई समुद्र के आर पार लोगों और विचारों की मुक्त आवाजाही की वजह से उत्पन्न हुए। हिप्पो के ऑगस्टीन एक अफ्रीकी आदमी थे जिनका धर्मशास्त्र और दर्शन आधुनिक ईसाई धर्म और पश्चिमी राजनीतिक विचार का स्तम्भ है। न्यायसंगत युद्ध का उनका सिद्धांत अभी भी अंतरराष्ट्रीय संबंधों और राजनीतिक विज्ञान की कक्षाओं में दुनिया भर में सिखाया जाता है। इतिहासकारों का कहना है कि ऑगस्टीन हज्जाम था- पशुपालक लोगों में से- और इसलिए रोम और मिलान में अपना काम जारी रखने के लिए जाने से पहले ही प्रवास और गतिशीलता उनके वैश्विक नज़रिए के लिए केंद्रीय थी। आवाजाही हमेशा भूमध्य क्षेत्र की बौद्धिक प्रजनन क्षमता के लिए केंद्रीय रही है, और आधुनिक शत्रुता केवल इसकी गिरावट में ही योगदान दे रही है ।

ऐसा नहीं है कि भूमध्य सागर के समुदायों के बीच पहले कभी दुश्मनी नहीं रही है । याद रखें: यूरोप हमेशा एक हिंसक जगह रही है । लेकिन जैसा कि यूरोप एक विशाल सामाजिक और राजनीतिक परियोजना में एकजुट हो गया है, नुकसान की गुंजाइश अधिक हो गई है । बर्ट्रेंड रसेल ने एक बार लिखा था कि नेता हमेशा बेवकूफ रहे हैं, लेकिन वे पहले कभी इतने शक्तिशाली नहीं रहे हैं; वे विश्व युद्धों के बीच के दौर का लेखन कर रहे थे, लेकिन आज भी यही कहा जा सकता है । नुकसान पहुंचाने की मानवीय क्षमता पहले से कहीं अधिक है, जो ऐतिहासिक तनाव और घृणा को और अधिक खतरनाक बना देती है । सैकड़ों वर्षों से स्थित मार्गों का उपयोग करते समय लोगों की चिंताजनक संख्या अब मर रही है ।

1990 शेंगेन कन्वेंशन ने आंतरिक वीज़ा नियंत्रणों को समाप्त करके और आम वीज़ा नीतियों को सहमति देकर (कई यूरोपीय देशों की सीमाओं पर नौकरशाही को कम करने के लिए) एक नई प्रणाली की शुरुआत की जिससे ऐतिहासिक रूप से खुले और ऐतिहासिक रूप से बंद देशों दोनों को खुश रखने का एक तरीका ढूंढा । यह समझौता एक आक्रामक, अपमानजनक और गरीब माने जाने वाले देशों से आने वाले लोगों की जांच की और भी अधिक हिंसक प्रक्रिया थी, और इस तरह आव्रजन के लिए एक जोखिम था।

मानवतावादी आपको बताएंगे कि शेंगेन प्रणाली ने चिंताजनक दक्षता के साथ एक बात की थी कि इन अवांछित देशों के उन सभी नागरिकों के लिए यूरोप में सभी मानवीय मार्गों को बंद कर दिया था जो एक अपेक्षित मयार पर खरे नहीं उतार सकते थे। सेनेगल या सूडान के एक युवक या महिला के लिए, जो जलवायु परिवर्तन, या टूटती हुई अर्थव्यवस्था से तबाह गावों में काम नहीं ढूंढ सकते थे, शेंगेन शासन ने यूरोप में कम मज़दूरी वाले काम की तलाश करने के लिए कोई कानूनी तरीका नहीं छोड़ा । बेशक यह आदर्श नहीं था कि लोग यूरोप आकार शरण का दावा करते थे या अपने पर्यटक वीज़ा से अधिक रुक जाते थे। लेकिन कम से कम वे जीवित आ रहे थे। शेंगेन के वास्तुकारों ने ये नहीं सोच कि लोगों की कितनी बड़ी संख्या अब तस्करों और गुप्त मार्गों की ओर प्रेरित होगी। जब लोग दो ही विकल्प देखते हैं - उसी जगह रहकर मौत या फिर कहीं और जाकर ज़िंदा रहने का छोटा सा मौका - तो वे कहीं और जाने को ही चुनते हैं।

जब भी मैं गोरों को यह तर्क देता हूं, तो हमेशा यही सुनने को मिलता है "तो क्यों उन देशों में लोग अपनी राजनीति का प्रभार नहीं लेते और अपने देशों को बेहतर नहीं बनाते?" बेशक यह बेहतर और यहां तक कि आदर्श विकल्प होगा। लेकिन सीमाओं का उपयोग पश्चिम से अस्थिरता निर्यात करने के लिए करो। अकेले अफ्रीका में बीसवीं सदी को देखो । पहले उपनिवेशीकरण और आक्रमण की हिंसा। फिर व्यापक प्रसार और पश्चिमी सरकारों के सहयोग से, थॉमस शंकर और पैट्रिस लुंबा जैसे दूरदर्शी नेताओं की लक्षित हत्या। फिर सक्रिय आर्थिक हस्तक्षेप और तोड़फोड़ के दशक जिनका समापन 1980 के दशक के अंत के संरचनात्मक समायोजन कार्यक्रमों के साथ हुआ: अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक से संकट में अर्थव्यवस्थाओं के लिए ऋण लेकिन संरचनात्मक सुधारों की शर्त पर। अब, डिजिटल उपनिवेशवाद है और पश्चिमी सरकारें विकासशील देशों की राजनीति में हस्तक्षेप करने के लिए निजी पश्चिमी निगमों को कवर प्रदान कर रही हैं क्या आपको अभी भी लगता है कि राज्यों द्वारा लिए गए विकल्पों के लिए नागरिकों को ज़िम्मेदार ठहराना उचित है? गरीब सरकारों को हथियारों का निर्माण और बिक्री करने वाले देश ऐसा करना रोकते क्यों नहीं? सरकारें सिर्फ तानाशाहों का समर्थन करना बंद क्यों नहीं करतीं? उत्प्रवास एक निर्वात में नहीं होता है।

समुद्र द्वारा यूरोप तक पहुँचने की कोशिश करने वाले लोगों की संख्या सिर्फ इसलिए नहीं बढ़ रही है क्योंकि लोग ही ज़्यादा हैं । ऐसा इसलिए है क्योंकि यूरोप के लिए कानूनी और सुरक्षित मार्ग मुठ्ठी भर लोगों को छोड़कर लगभग सभी के लिए गायब हो गया है।

पीआई काउंसिल की सदस्य नंजाला न्याबोला एक लेखक, स्वतंत्र शोधकर्ता और राजनीतिक विश्लेषक हैं । उनका काम संघर्ष और संघर्ष के बाद के बदलावों, शरणार्थियों और प्रवास तथा पूर्वी अफ्रीका की राजनीति पर केंद्रित है। उनकी नवीनतम पुस्तक, ट्रैवलिंग वाइल ब्लैक: एस्सेस इन्स्पाइअर्ड बाइ अ लाइफ ऑन द मूव, 19 नवंबर को प्रकाशित की गई थी।

Help us build the Wire

The Wire is the only planetary network of progressive publications and grassroots perspectives.

Since our launch in May 2020, the Wire has amplified over 100 articles from leading progressive publications around the world, translating each into at least six languages — bringing the struggles of the indigenous peoples of the Amazon, Palestinians in Gaza, feminists in Senegal, and more to a global audience.

With over 150 translators and a growing editorial team, we rely on our contributors to keep spreading these stories from grassroots struggles and to be a wire service for the world's progressive forces.

Help us build this mission. Donate to the Wire.

Support
Available in
EnglishItalian (Standard)FrenchGermanPortuguese (Portugal)SpanishPortuguese (Brazil)HindiTurkish
Author
Nanjala Nyabola
Translator
Nivedita Dwivedi
Date
16.12.2020

More in Migration

Migration

"You’re Not Welcome Here": How Europe Is Paying Millions to Stop Migration From Africa

Receive the Progressive International briefing
Privacy PolicyManage CookiesContribution Settings
Site and identity: Common Knowledge & Robbie Blundell