Economy

कर्ज माफ करने की हिम्मत करें

पीआई के वायर और ब्लूप्रिंट समन्वयक वर्ल्ड बैंक और आईएमएफ की सख्त नीतियों के खिलाफ दुनिया के देनदारों को एकजुट होने के लिए एक तत्काल आह्वान करते हैं।
इंटरनॅशनल मॉनिटरी फंड (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष - आई एम एफ ) की प्रबंध निदेशक क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने 19वीं सदी के रूसी उपन्यासकार फ्योडोर दोस्तोव्स्की के हवाले से कहा, "केवल एक चीज मायने रखती है - हिम्मत करने में सक्षम होना।”
इंटरनॅशनल मॉनिटरी फंड (अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष - आई एम एफ ) की प्रबंध निदेशक क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने 19वीं सदी के रूसी उपन्यासकार फ्योडोर दोस्तोव्स्की के हवाले से कहा, "केवल एक चीज मायने रखती है - हिम्मत करने में सक्षम होना।”

जॉर्जीवा के शब्दों से संकेत मिलता था कि आई एम एफ और उसके भाई, वर्ल्ड बैंक, वैश्विक महामारी के कारण हुई महामंदी के बाद की सबसे खराब आर्थिक मंदी का सामना करने के लिए अपनी रूढ़िवादिता से परे चले गए हैं।

अतीत के साथ एक विराम, वास्तव में, जरूरी है। जहां कई देश कोरोना वायरस के सबसे खराब स्वास्थ्य प्रभावों से बचने में कामयाब रहे हैं, वहीं ग्लोबल साउथ आर्थिक रूप से कमजोर होने की कगार पर है। युनाइटेड नेशन्स (यूएन) का अनुमान है कि अफ्रीका में सभी नौकरियों में से लगभग आधी खो सकती हैं , जबकि ऑक्सफैम ने गणना की है कि वायरस के आर्थिक प्रभाव से आधे अरब लोग गरीबी में जा सकते हैं।

यदि आईएमएफ दुनिया के बहुमत की आर्थिक और सामाजिक भलाई के बारे में गंभीर है, तो वह अगले चार वर्षों के लिए दुनिया के सबसे गरीब देशों के लिए ऋण भुगतान रद्द, नए रियायती धन की स्थापना, और बाजार कट्टरपंथी शर्तों के बिना वैश्विक दक्षिण देशों के लिए ऋण जारी करेगा । इससे इन सरकारों को अपने लोगों की जरूरत वाले सामाजिक, भौतिक और हरित बुनियादी ढांचे में निवेश करने में आसानी होगी ।

इसके बजाय, आईएमएफ कल्याण कार्यक्रमों में विनाशकारी कटौती के लिए मजबूर कर रहा है जिसके परिणामस्वरूप बहुत सारे देशों में जीवन स्तर में गिरावट आ रही है। ऑक्सफैम ने प्रलेखित किया है कि महामारी की शुरुआत के बाद से शुरू किए गए आईएमएफ के 84% ऋणों ने सार्वजनिक खर्चों में कटौती को प्रोत्साहित या आवश्यक किया है, जो सार्वजनिक स्वास्थ्य और आर्थिक सुरक्षा दोनों को खतरे में डालते हैं।

महामारी के दौरान सरकार, केंद्रीय बैंक, और आईएमएफ की नीतिगत प्रतिक्रियाएं वैश्विक असमानता को बढ़ा रही हैं। 90% से अधिक महामारी-उत्तेजक खर्च अमीर देशों में हुए हैं, यहां तक कि जो देश आईएमएफ से उधार लेने को मजबूर हुए, उनमें से 72 को अगले साल की शुरुआत में अपने बजट में कटौती करने के लिए कहा गया है।

धनी देशों द्वारा दिखाई गई एकजुटता एक क्रूर जनसंपर्क अभ्यास है। G20 देशों ने केवल छह और महीनों के लिए देनदारों के दरवाजे नहीं खटखटाने का आश्वासन दिया है। न केवल उनका डेट सर्विस सस्पेंशन इनिशिएटिव (डीएसएसआई) निजी लेनदारों को बाहर करता है, बल्कि अब तक के निलंबन की कुल राशि इतनी मामूली है कि वह हंसी के योग्य है - अनुमानित 5 बिलियन डॉलर, जो कि 2019 में सभी डीएसएसआई देशों के कुल बाह्य ऋण का केवल 0.7% है। चीजों को परिप्रेक्ष्य में रखने के लिए, वह राशि न्यूयॉर्क सिटी सबवे (भूमिगत रेल) या मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्टेशन अथॉरिटी के 2019 के बजट के एक तिहाई हिस्से के भी नीचे है। संक्षेप में, निर्णय किया गया है: ग्लोबल साउथ में लोगों का जीवन अंतरराष्ट्रीय निजी पूंजी के लिए माध्यमिक है।

सभा का असली विषय, वास्तव में, कुछ ऐसा था जिसे आईएमएफ ने इस महीने की शुरुआत में स्वीकार किया था: “उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के लिए, जो भी लगे यह वैसा है। दूसरी ओर, ग़रीब देशों के लिए जो भी संभव है, वो उस ही के लिए प्रयास कर सकते हैं ।” और क्या संभव है? गर्मियों तक, जी20 देशों ने कुछ ही महीनों में 10 ट्रिलियन डॉलर तक के प्रोत्साहन पैकेजों को रोल आउट कर दिया था, या कहें तो, विशेषज्ञों के अनुसार, विकासशील देशों की आवश्यकता से चार गुना करीब राशि।

युनाइटेड नेशन्स (यूएन) के व्यापार और विकास सम्मेलन का तर्क है, "एक निरस्त आर्थिक सुधार, या इससे भी बदतर, एक और 'खोया हुआ दशक', अवश्यम्भावी नहीं है" - "यह नीति के विकल्प की बात है," - ऐसी नीति जो हमारे अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थान दुनिया के सबसे कमजोर लोगों के लिए सक्रिय रूप से बना रहे हैं।

समाधान मौजूद हैं - जी20 वित्त मंत्री, आईएमएफ और विश्व बैंक ग्लोबल साउथ को तरलता दे सकते हैं और इसकी सख्त जरूरत है। आईएमएफ लगभग बिना किसी शुल्क के नए विशेष आहरण अधिकार (SDRs) जो की विदेशी मुद्रा भंडार संपत्ति का एक रूप है, जारी कर सकते हैं। डीएसएसआई देशों द्वारा अब से दिसंबर 2024 तक सभी बहुपक्षीय ऋण भुगतानों को रद्द किया जा सकता है – जो अमीर देशों और चीन द्वारा विशेष आहरण अधिकार के हेतु प्राप्त हुई धनराशि के 9% से भी कम है। अंत में, कम से कम अगले चार वर्षों के लिए, सभी द्विपक्षीय, निजी और बहुपक्षीय उधारदाताओं से तत्काल और बिना शर्त ऋण रद्द करने की एक संभावना होनी चाहिए

वैश्विक आर्थिक न्याय के प्रति नए सिरे से प्रतिबद्धता को अल्पकालिक राहत से परे जाना चाहिए: एक स्थायी वैश्विक ऋण-राहत तंत्र, कठोरता, निजीकरण, और नियंत्रण के सभी ऋण शर्तों का परित्याग, कर बचाव, कर चोरी, अवैध धन के प्रवाह से निपटने के लिए वैश्विक शासन, उत्तर से दक्षिण तक हरित प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण, वैश्विक व्यापार नियमों का पुनर्लेखन, उत्तर-से-दक्षिण तक सार्वजनिक निवेश का एक विशाल कार्यक्रम, और निष्पक्ष, हरित-वसूली के लिए पुनर्संरचना, और भी बहुत कुछ – संक्षेप में; वैश्विक हरित नई डील

अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों ने अपने मूल सार को स्पष्ट कर दिया है: कठोरता के प्रति निष्ठा, कुछ आपातकालीन ऋण, और ऋण रद्द करने के विचार को पूरी तरह से खारिज करना। यह हम सब को उस विश्व व्यवस्था के बारे में सब कुछ बताता हैं जिसे वे बनाए रखने का इरादा रखते हैं।

लेकिन इस प्रणाली के शिकार, दुनिया की भारी बहुसंख्या, शक्ति के बिना नहीं है। जैसा कि फिल मदर हमें याद दिलाते है: "जब उधारकर्ता और नागरिक विहीन ऋणी और कट्टरपंथी कार्यकर्ता बन जाते हैं और आर्थिक विषमताओं को चुनौती देते हैं, तो वे वैश्विक वित्तीय प्रणाली की नैतिक और आर्थिक नींव को हिला सकते हैं।" शायद डायरेक्टर जॉर्जीवा के शब्दो - "एक साथ हमारी सबसे तीव्र चुनौती का सामना करने की हिम्मत करें" - का अमल करते हुए दुनिया के देनदारों का एकजुट होने और डिफ़ॉल्ट करने का वक्त आ गया हैं।

माइकल गैलेंट प्रोग्रेसिव इंटरनेशनल के वायर पिलर के समन्वयक हैं।

वर्षा गांदीकोटा-नेलुटला ब्लूप्रिंट स्तंभ की समन्वयक हैं।

Help us build the Wire

The Wire is the only planetary network of progressive publications and grassroots perspectives.

Since our launch in May 2020, the Wire has amplified over 100 articles from leading progressive publications around the world, translating each into at least six languages — bringing the struggles of the indigenous peoples of the Amazon, Palestinians in Gaza, feminists in Senegal, and more to a global audience.

With over 150 translators and a growing editorial team, we rely on our contributors to keep spreading these stories from grassroots struggles and to be a wire service for the world's progressive forces.

Help us build this mission. Donate to the Wire.

Support
Available in
EnglishItalian (Standard)GermanSpanishFrenchHindi
Authors
Varsha Gandikota-Nellutla and Michael Galant
Translators
Mohit Sachdeva and Laavanya Tamang
Date
21.10.2020

More in Economy

Economy

Jayati Ghosh: How to Build the Global Green New Deal

Receive the Progressive International briefing
Privacy PolicyManage Cookies
Site and identity: Common Knowledge & Robbie Blundell