Economy

कैलिफोर्निया अब टेक कंपनियों को सीधा अपने कानून लिखने की अनुमति देता है

20 करोड़ डॉलर के प्रचार के बाद, कैलिफोर्निया के मतदाताओं ने उबर-और लिफ्ट समर्थित ‘प्रस्ताव 22’ को पारित कर दिया, जो स्थायी रूप से ऑनलाइन "मंच" के श्रमिकों को श्रम सुरक्षा से बाहर रखता है ।
कोई भी श्रमिकों को बचाने के लिए आगे नहीं आ रहा । भविष्य, कामकाजी वर्ग पर लटका हुआ है जो अपने अधिकारों की रक्षा के लिए खुद को संगठित कर रहे हैं, जबकि पूंजी को उन्हें सफल होने से रोकने के लिए प्रभावी रूप तैनात किया जा रहा है ।
कोई भी श्रमिकों को बचाने के लिए आगे नहीं आ रहा । भविष्य, कामकाजी वर्ग पर लटका हुआ है जो अपने अधिकारों की रक्षा के लिए खुद को संगठित कर रहे हैं, जबकि पूंजी को उन्हें सफल होने से रोकने के लिए प्रभावी रूप तैनात किया जा रहा है ।

3 नवंबर को, कैलिफोर्निया के मतदाताओं ने प्रस्ताव 22 पारित कर दिया, यह मतपत्र जो अनलाइन एप द्वारा समर्थित है, जो उन्हें उनके अनुमानित तीन लाख श्रमिकों को “कर्मचारियों” के रूप में न वर्गीकृत करने की छूट देता है । प्रस्ताव 22 के प्रिंट में छोटे अक्षरों में लिखित एक आवश्यकता है कि राज्य विधानमंडल के 7/8 हिस्से के अनुमोदन के बिना यह प्रस्ताव संशोधित नहीं किया जा सकता है, इससे यह सुनिश्चित हो जाता है की इसे पलटा नहीं जा सकता ।

उपाय की सफलता अमीरों द्वारा शासन की कहानी में एक मील का पत्थर है । क्या प्रस्ताव 22 की सफलता से पहले कोई संदेह था कि पूंजीपति अपने कानून खुद नहीं लिख सकते हैं? आप उम्मीद कर सकते हैं की संयुक्त राज्य अमेरिका के हर कार्यकारी इस पर ध्यान देगा ।

उबर, लिफ्ट, डोर-डैश , पोस्टमेट्स, और इंस्टाकार्ट सहित कंपनियों ने “प्रोप 22” कानून पारित करने के प्रयास में 20 करोड़ डॉलर डाला जो उन्हें स्वास्थ्य देखभाल, बेरोजगारी बीमा, सुरक्षित काम करने की स्थिति और अन्य लाभों से संबंधित श्रम कानून आवश्यकताओं से छूट देता है (संभावित रूप से श्रमिकों के मुआवजे और मृत्यु लाभसहित, इस दु:खद खबर को लॉस एंजिल्स टाइम्स की इस कहानी में विस्तृत रूप से पढ़ा जा सकता है) । प्रस्ताव 22 के विरोध में मोटे तौर पर यूनियन और संबद्ध श्रम संगठनो ने 2 करोड़ डॉलर इकट्ठा किए ।

प्रस्ताव के समर्थकों ने कैलिफ़ोर्नियाई लोगों को वोट देने के लिए लीड-अप में भ्रामक मेलर्स, विज्ञापनों और इन-ऐप सूचनाओं की बमबारी की । लॉस एंजिल्स टाइम्स की रिपोर्ट में, “हां प्रोप 22” ने एक दिन में 6 लाख 28 हजार डॉलर खर्च किए: " जो किसी भी महीने में, कैलिफोर्निया के 53 हाउस की दौड़ में से 49 के लिए एक पूरे चुनाव चक्र से अधिक पैसा है। उन्नीस जनसंपर्क फर्मों को काम पर रखने के अलावा, जिनमें से कुछ ने तंबाकू उद्योग की बड़ी कंपनियों के लिए काम कर के नाम बनाया, कंपनियों ने कैलिफोर्निया के एनएएसीपी के प्रमुख एलिस हफमैन द्वारा संचालित एक परामर्श फर्म को 85 हजार डॉलर दान किया, प्रभावी रूप से उन्हें नस्लीय न्याय के पक्ष में खुद को पेश करने की अनुमति दी,जबकि यह विधेयक ड्राइवरों के विरुद्ध है जिनमें से अधिकांश रंग (अश्वेत) के लोग हैं । पैसे की इस बाढ़ ने प्रस्ताव 22 को न केवल कैलिफोर्निया के इतिहास में सबसे महंगा मतपत्र उपाय बनाया, अपितु संयुक्त राज्य अमेरिका के इतिहास में भी ।

इस उपाय की जड़ एबी 5 (विधानसभा विधेयक 5) है, यह एक राज्य कानून है जो कंपनियों को “एबीसी परीक्षण” के आधार पर श्रमिकों को कर्मचारी का दर्जा देने के लिए बाध्य करता है । कैलिफोर्निया सुप्रीम कोर्ट के डायनामेक्स मामले में एबीसी मानक का कहना है कि एक कार्यकर्ता स्वतंत्र ठेकेदार होने के बजाए एक कर्मचारी है “अगर उसकी नौकरी कंपनी के मुख्य व्यवसाय का हिस्सा है, अगर मालिकों के आदेश से काम किया जाता है या अगर कार्यकर्ता ने एक प्रत्यक्ष स्वतंत्र व्यापार की स्थापना नहीं की है। ” टेक एग्जिक्युटिव्स के इस आग्रह के बावजूद कि उनकी कंपनियां नियोक्ताओं के बजाय महज़ प्लेटफॉर्म हैं, गिग-इकोनॉमी कंपनियों के ड्राइवर स्पष्ट रूप से एबीसी टेस्ट को पूरा करते हैं, जिसके चलते यह छूट लिखने की दौड़ हुई ।

यह विधेयक गिग-अर्थव्यवस्था वाली कंपनियों के लिए अस्तित्व का सवाल है, यही वजह है कि वे बाहर इतनी नकदी खर्च कर इसे सुरक्षित करने को तैयार थे । इनमें से कोई भी कंपनी लाभ नहीं कमा रही है । ऊबर को 2020 की पहली छमाही में 47 करोड़ डॉलर का नुकसान हुआ । उनका पूरा व्यापार मॉडल श्रम अंतरपणन पर आधारित है: यह तब तक लाभदायक नहीं होगा जब तक वे स्वचालित प्रौद्योगिकी का उपयोग कर के ड्राइवरों को नौकरी से न निकाल दें - यह तकनीक व्यावहारिकता से बहुत दूर है, जिसका अर्थ है कि वे कभी लाभदायक नहीं होंगे - लेकिन इस बीच, वे उद्यम पूंजी द्वारा दी गई रियायत पर नुकसान में काम कर रहे हैं, नियोक्ता के दायित्व और जोखिम से बचते हुए । 4 नवंबर की सुबह बाज़ार खुलते ही ऊबर के शेयरों में 9 प्रतिशत की उछाल देखी गई, जबकि लिफ्ट 12 प्रतिशत बढ़ गया ।

अगर इन कंपनियों को श्रम कानून का पालन करना होता तो वे डूब जातीं । उदाहरण के लिए, प्रोस्पेक्ट के रिपोर्ट के मुताबिक ऊबर और लिफ्ट ने कैलिफोर्निया के बेरोज़गारी बीमा कोष में भुगतान करने से इनकार कर दिया है जिससे कंपनी ने “2014 के बाद से 41.3 करोड़ डॉलर बचाए हैं। ” लाभ और सुरक्षा कानून के मुताबिक भुगतान करने के बजाए अब इन कंपनियों को केवल सीमित लाभ और मज़दूरी देनी है जो 5.64 डॉलर प्रति घंटा है - बजाय 13 डॉलर प्रति घंटा के जो उन्हें राज्य न्यूनतम वेतन कानून के तहत कर्मचारियों के रूप में प्राप्त होता -यूसी बर्कले श्रम केंद्र के शोधकर्ताओं के अनुसार

लेकिन यह ऐतिहासिक जीत भी ऊबर जैसों को बचाने के लिए पर्याप्त नहीं होगी और ऐसा सोचने का कारण भी है । कंपनी, गिग-अर्थव्यवस्था के परजीवियों में सबसे प्रमुख, को संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया भर में विरोध का सामना करना पड़ रहा है । एडवर्ड ओंगवेसो जूनियर लिखते हैं, राष्ट्रीय और राज्य दोनों स्तर पर सरकारें ऊबर को कर चोरी में अरबों का भुगतान करने के लिए मजबूर करने के लिए लड़ रही हैं, और कंपनी की सार्वजनिक पेशकश के दिन, 2019 में हड़ताल आयोजित की गई जिसके बाद ब्राज़ील, मैक्सिको, चिली, अर्जेंटीना और इक्वाडोर में आगे कार्यकर्ता कार्रवाई की गई । इसके अलावा, "ऊबर फ्रांस, ब्रिटेन, कनाडा और इटली में कानूनी चुनौतियां हार रही है, जहां उच्च न्यायालयों ने या तो स्पष्ट फैसला सुनाया है कि ऊबर ड्राइवर कर्मचारी हैं, या उन्हें इस रूप में वर्गीकृत करने वाले मुकदमों का दरवाज़ा खोल दिया है," ओंगवेसो जूनियर लिखते हैं ।

लेकिन फिर भी अगर प्रस्ताव 22 के अधिवक्ता अंततः बर्बाद हो जाएं - तब भी एक बड़ा रोड़ा है, जिससे वर्तमान में अनगिनत ड्राइवर जो उनके किराए का भुगतान करने के लिए एल्गोरिदम पर निर्भर हैं, को ज्यादा फर्क नहीं पड़ता - गिग-अर्थव्यवस्था कंपनियों के लिए श्रमिकों के प्रति अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लेने का यह पहला मामला नहीं है । तकनीकी उद्योग की नीव श्रम अंतरपणन और कानूनी खामियों के शोषण से एकजुट है । यह नवाचार के लिए उनका दावा है । और वह केवल कम मज़दूरी वाले श्रमिकों को प्रभावित नहीं करता है: गूगल के कार्यबल का बहुमत, सफेद कॉलर, स्वतंत्र ठेकेदारों से बना है । यह हम सभी के काम का भविष्य है अगर सिलिकॉन वैली को इस बारे में कुछ कहना है ।

श्रमिकों की एक नई श्रेणी का प्रतिष्ठापन, जिनकी कड़ी मेहनत से जीते अधिकार का कोई कंपनी सम्मान करने के लिए बाध्य नहीं है कैलिफोर्निया के गिग-ईकानमी तक ही सीमित नहीं रहेगा । 3 नवंबर की रात को, प्रस्ताव 22 के परिणाम के बाद से, विजयी कंपनियों के प्रमुखों ने राष्ट्रीय स्तर पर इस मॉडल को निर्यात करने के अपने इरादे की घोषणा की है । “अब, हम आगे और देश भर में देख रहे हैं, नए लाभ संरचनाओं को पोर्टेबल, आनुपातिक और लचीला कर चैंपियन करने के लिए तैयार है," डोर-डैश के सीईओ टोनी ने मतपत्र पारित होने के बाद कहा । लिफ्ट ने एक जश्न का ईमेल भेजा, कानून को एक ‘तीसरे रास्ते’ के निर्माण की ओर एक अभूतपूर्व कदम बताते हुए कि अमेरिका स्वतंत्र श्रमिकों को पहचानता है।” "प्रोप 22 एक तेज़ी से तकनीकी रूप से संचालित अर्थव्यवस्था में काम के भविष्य का प्रतिनिधित्व करता है," एक जश्न बयान में यस ऑन प्रोप 22 ने अपनी वेबसाइट पर पोस्ट किया

इन अधिकारियों के इरादों का, जो कैलिफोर्निया में अपनी सफलता को पूरे देश में दोहराना चाहते हैं , चुने हुए प्रतिनिधियों के बीच कम हीं विरोध दिखा । इन कंपनियों ने नैंसी पेलोसी के अपने ज़िले में अपने आक्रामक अभियान की शुरुआत की और सदन के नेता ने उनसे लड़ने को प्राथमिकता नहीं दी । जबकि जो बिडेन और कमला हैरिस का कहना है कि वे प्रस्ताव 22 का विरोध करते हैं, वहीं बिडेन कभी श्रमिकों के अधिकारों के लिए लड़ते नजर नहीं आए हैं, अगर यह एक फोटो सेशन अभियान के लिए नहीं हो तो, और हैरिस के साथ सिलिकॉन वैली के अभूतपूर्व संबंध है । उनके परिवार के हीं टोनी वेस्ट, उनके देवर और ओबामा प्रशासन में एक उच्च रैंकिंग अधिकारी ने इस गलत वर्गीकरण के लिए गिग-अर्थव्यवस्था कंपनियों की कानूनी रणनीति को लिखा था

कोई भी श्रमिकों को बचाने के लिए आगे नहीं आ रहा । भविष्य, कामकाजी वर्ग पर लटका हुआ है जो अपने अधिकारों की रक्षा के लिए खुद को संगठित कर रहे हैं, जबकि पूंजी को उन्हें सफल होने से रोकने के लिए प्रभावी रूप से तैनात किया जा रहा है । श्रमिकों के बीच एकता की आवश्यकता है, दोनों, जो संघीकृत हैं और जो नहीं हैं, कर्मचारी और स्वतंत्र ठेकेदारों, दोनों । संयुक्त राज्य अमेरिका में जो सीमित लोकतंत्र है, उसका भविष्य प्रस्ताव 22 के ऊपर निर्भर है।

एलेक्स एन प्रेस जैकोबिन में एक सहायक संपादक है । उनके लेख वाशिंगटन पोस्ट, वोक्स, द नेशन और एन+1 समेत अन्य स्थानों पर प्रकाशित होते हैं ।

Help us build the Wire

The Wire is the only planetary network of progressive publications and grassroots perspectives.

Since our launch in May 2020, the Wire has amplified over 100 articles from leading progressive publications around the world, translating each into at least six languages — bringing the struggles of the indigenous peoples of the Amazon, Palestinians in Gaza, feminists in Senegal, and more to a global audience.

With over 150 translators and a growing editorial team, we rely on our contributors to keep spreading these stories from grassroots struggles and to be a wire service for the world's progressive forces.

Help us build this mission. Donate to the Wire.

Support
Available in
EnglishItalian (Standard)FrenchSpanishGermanPortuguese (Brazil)HindiPortuguese (Portugal)
Author
Alex N. Press
Translators
Surya Kant Singh and Nivedita Dwivedi
Date
12.11.2020

More in Economy

Economy

Jayati Ghosh: How to Build the Global Green New Deal

Receive the Progressive International briefing
Privacy PolicyManage Cookies
Site and identity: Common Knowledge & Robbie Blundell